Life of Station Master in Railway | स्टेशन मास्टर का क्या काम होता है | Station Master on Duty

 Life of Station Master in Railway | स्टेशन मास्टर का क्या काम होता है | Station Master on Duty

    Hello Dosto ..! आज मै एक Station Master  से मिला और उनसे जानने की कोशिश की , की की क्वोलोग क्या काम करते है , कितने घंटे की DUTY होती  है ,और उन्हें क्या क्या Difficulties फेस करनी पड़ती है ,! जैसा की आपको ऊपर वीडियो  में दिखाया गया है , की यह पे एक cabin  है , और वह पे वोलोग काम करते है  वह पे आप ३ लोगो को देख सकते है  स्टेशन मास्टर  STATION MASTER  है जो LINE  बनाते है खा जाना है कैसे जाना है  |  और एक GATEMAN  है जो  जिनका काम रहता है  गेट बंद करना और गेट खोलना | और लोगो से DEAL  करना , और एक है POINTMAN  जो कभी कोई पटरी POINT  काम नही कर्री है पटरी चेंज   करने में ,  देखेंगे  वह  बोहोत सरे पॉइंट्स  रखे हुए है वो उसको बनाते है | पटरी पे जाके। . तो यह एक BACKUP के रुप में रखे  जाते है || 


    INDIAN  RAILWAY  मासटर  MASTER का एक  रोल क्या  होता है

    DOSTON  INDIAN  RAILWAY  मासटर  MASTER का एक एहम रोल होता है ,आप यह समझे की STATION  का जो BOSS  होता है वह STATION MASTER ही होता है | कोनसी गाड़ी के लिए कब रेड सिग्नल होगा , येलो सिग्नल होगा , ग्रीन सिग्नल होगा , गाड़ी कोनसे

     PLATFORM पे नाएगी , समय से आएगी और समय से जाएगी  ये सारा कुछ STATION MASTER   का ही काम  होता है | और ये काम इतना जिमीद्री भरा हुआ है इसमें अगर एक भ्ही गलती होगयी तो गाड़ी दुर्घटनाग्रस्त होसकती है  हज़ारो लोगो किम जान जा सकती है  रैलवाती को भट बड़ा नुकसान हो सकता है  STATION MASTER  को पैसेंजर ट्रैन के साथ साथ गुड्स ट्रेंस का बगही देखभाल करना पड़ता है | इनको आजु बाजु के स्टेशन से कम्यूनिकेट करके  पता करना पड़ता है की कोनसी ट्रैन गुजरने वाली है  सब कुछ रिकॉर्ड मेन्टेन करके   गतिमान को ये निर्देश  देना पड़ता  है की अभी गेट खोलना है या बंद करना है | आप सोच सकते है  कई  जिम्मेदारी भरा हुआ है , हमने STATIONMASTER से बात की  में थोड़ा संकोच कर्रे थे उन्होंने जो कुछ भी बताया मए आपको सुनाने जा रहा हु | 

    ट्रेन को चलाने में स्टेशन मास्टर का क्या रोल होता है? आपको पता है स्टेशन मास्टर की सैलरी कितनी होती है?

    रेलवे स्टेशन पर सेवाएं देने वाले कुलियों का नियंत्रण भी स्टेशन मास्टर के पास होता है. यदि कोई कुली किसी यात्री के साथ दुर्व्यवहार करता है या किसी कुली को कोई दिक्कत होती है तो स्टेशन मास्टर ही इन मामलों को देखता है 
    स्टेशन मास्टर के काम और जिम्मेदारियां

    भारतीय रेलवे के अंतर्गत आने वाले सभी छोटे-बड़े रेलवे स्टेशन की देखरेख के लिए एक स्टेशन मास्टर नियुक्त किया जाता है. स्टेशन मास्टर की पोस्टिंग किसी रेलवे स्टेशन पर ही होती है और रेलवे स्टेशन परिसर में ही उसका दफ्तर भी होता है. किसी भी रेलवे स्टेशन पर तैनात स्टेशन मास्टर के कई महत्वपूर्ण काम होते हैं. रेलवे स्टेशन पर यात्रियों को मिलने वाली सभी सुविधाएं एक स्टेशन मास्टर की प्लान करता है. आज हम यहां एक स्टेशन मास्टर के प्रमुख काम और उनकी सैलरी के बारे में जानेंगे

    • स्टेशन मास्टर को एक रेलवे स्टेशन का प्रमुख भी कहा जाता है. लिहाजा, एक स्टेशन पर आने वाली और वहां से गुजरने वाली सभी ट्रेनों के संचालन में स्टेशन मास्टर की अहम भूमिका होती है.
    • स्टेशन मास्टर को अपनी ड्यूटी के दौरान एक-एक गतिविधियों पर कड़ी नजर रखनी पड़ती है. स्टेशन मास्टर की एक छोटी-सी चूक बड़े हादसे का कारण भी बन सकती है.
    • एक रेलवे स्टेशन पर काम करने वाले सभी कर्मचारियों से जुड़ी जिम्मेदारी स्टेशन मास्टर की होती है.
    • भारतीय रेलवे के नियमों को ध्यान में रखकर किसी भी रेलवे स्टेशन पर कोई काम कराने की जिम्मेदारी स्टेशन मास्टर की होती है.
    • रेलवे स्टेशन पर आने वाले सभी यात्रियों की सुरक्षा और सुविधाओं की देखरेख भी स्टेशन मास्टर ही करते हैं.
    • रेलवे स्टेशन पर सेवाएं देने वाले कुलियों का नियंत्रण भी स्टेशन मास्टर के पास होता है. यदि कोई कुली किसी यात्री के साथ दुर्व्यवहार करता है या किसी कुली को कोई दिक्कत होती है तो स्टेशन मास्टर ही इन मामलों को देखता है.
    • स्टेशन मास्टर को एक्सिडेंट रजिस्टर और एक्सिडेंट चार्ट रोजाना मेंटेन करना होता है. यात्रियों की किसी भी शिकायत को ध्यान में रखकर कार्यवाही भी करनी होती है.
    • एक स्टेशन मास्टर को रेलवे स्टेशन के सभी पॉइंट्स, सिग्नल, पैनल और ट्रैक सर्किट की रोजाना जांच करना पड़ता है.

    Life of Station Master in Railway 

    आपके जॉब में कितने डिफीकल्टी है है और आपको डे तो डे लाइफ में क्या प्रेशर फील करना पड़ता है ?

    प्रेशर सबसे पहले  तो सेफ्टी केटेगरी से आते है तो हम्हे पब्लिक का ध्यान रखना पड़ता है  ., पब्लिक का मूवमेंट भी साफल्य होना चाहिए  सेफ साइट्स पूरा हमलोग देखते है की कही भी कोई गलती हमसे न हो ,   हैनहे हमेशा चौकन्ना रहना पड़ता है , हमेशा पुनक्तुअल रहना  पड़ता है || 

    एक महीने में कितनी तनख्वाह पाते हैं स्टेशन मास्टर
    SALARY OF STATION MASTER

    स्टेशन मास्टर की तनख्वाह उसके स्टेशन और शहर पर निर्भर करती है. यदि किसी स्टेशन मास्टर की पोस्टिंग हावड़ा, दिल्ली, मुंबई जैसे बड़े स्टेशन पर है, उनकी सैलरी ज्यादा होती है. जबकि एक छोटे रेलवे स्टेशन पर तैनात स्टेशन मास्टर की तनख्वाह कम होती है. Quora पर भारतीय रेलवे के एक कर्मचारी सुभाषीश दत्ता रॉय के मुताबिक किसी भी स्टेशन मास्टर की शुरुआती पोस्टिंग एक सहायक स्टेशन मास्टर (ASM) के रूप में होती है. ASM ग्रुप सी के अंतर्गत आते हैं

    स्टेशन मास्टर का क्या काम होता है 

    रेलवे स्टेशन मास्टर कैसे बने

    किसी भी रेलवे स्टेशन पर स्टेशन मास्टर का एक महत्वपूर्ण और सबसे अधिक सम्मानित अधिकारी होता है| स्टेशन मास्टर, स्टेशन पर होनें वाले सभी प्रकार के कार्यो की गतिविधियों के लिए उत्तरदायी होता है| स्टेशन मास्टर जिस स्टेशन पर नियुक्त किया जाता है, उस स्टेशन को सुचारू, सुरक्षित एवं कारगर ढंग से चलानें के लिए जिम्मेदार होता है| उनका कार्य दूसरों का सुपरविजन करना, गाइडेंस प्रदान करना होता है| भारतीय रेलवे द्वारा समय-समय पर इस पद के लिए भर्ती निकाली जाती है| यदि आप भी रेलवे स्टेशन मास्टर बनना चाहते है, तो इसके बारें में आपको इस पेज पर विस्तार से बता रहें है|

    शैक्षणिक योग्यता (Qualification)

    रेलवे स्टेशन मास्टर बननें के लिए किसी भी वर्ग से ग्रेजुएट अर्थात स्नातक होना अनिवार्य है|

    आयु (Age)

     रेलवे स्टेशन मास्टर बनने के लिए अभ्यर्थी की न्यूनतम आयु 18 वर्ष और अधिकतम 32 वर्ष है| आरक्षित वर्ग के अभ्यर्थियों को नियम के अनुसार छूट प्रदान की जाएगी|

    रेलवे स्टेशन मास्टर कैसे बने (Railway Station Master Kaise Bane)

    भारतीय रेलवे पूरे भारत में रेलवे स्टेशन मास्टर के पदों पर भर्ती के लिए नोटिफिकेशन जारी करता है| चयन प्रक्रिया के अंतर्गत में रेलवे रिक्रूटमेंट बोर्ड रेलवे स्टेशन मास्टर की नियुक्ति के लिए एक कंप्यूटर आधारित ऑनलाइन परीक्षा का आयोजन किया जाता है| लिखित परीक्षा दो चरणों प्रारंभिक और मुख्य परीक्षा होती है, जिसके बाद एप्टीट्यूड टेस्ट और अंत में डॉक्यूमेंट वेरिफिकेशन किया जाता है|

    स्टेशन मास्टर की प्रारंभिक परीक्षा में चार विषय होते हैं, जो इस प्रकार है –

    • अंकगणितीय एबिलिटी(Arithmetic Ability)
    • जनरल नॉलेज(General knowledge)
    • जनरल इंटेलीजेंस(General Intelligence)
    • जनरल इंग्लिश (optional)


    स्टेशन मास्टर बनने के लिए आवश्यक गुण (Qualities)

    • स्टेशन मास्टर को अत्यधिक धैर्यवान होना चाहिए।
    • शारीरिक रूप से स्वस्थ, विश्लेषणात्मक मन और सटीक निर्णय लेने की क्षमता होना आवश्यक है|
    • स्टेशन मास्टर के लिए अच्छा संचार कौशल और कंप्यूटर ज्ञान होना आवश्यक है।
    • उनके अधीनस्थों को संगठित करने के लिए उनके पास अच्छे संगठनात्मक कौशल होना चाहिए।
    • स्टेशन मास्टर के लिए अनुशासन, समयबद्धता और वचनबद्धता आवश्यक हैं।
    • स्टेशन मास्टर पद के लिए लीडरशिप क्वालिटी का होना आवश्यक है|

    रेलवे स्टेशन मास्टर की सैलरी एवं अन्य भत्ते (Salary And Other Allowances)

    किसी भी सरकारी कर्मचारी की सैलरी पे-बैंड के आधार पर निर्धारित होती है| सभी कर्मचारियों की सैलरी उनके पद एवं उसके अनुरूप ग्रेड के अनुसार निर्धारित की जाती है| रेलवे स्टेशन मास्टर लिए निर्धारित पे-स्केल रु.5200-20200 होती है, और रु.2800 ग्रेड पे दिया जाता है|  इस प्रकार कुल सैलरी लगभग रु 38000 होती है|

    रेलवे स्टेशन मास्टर को मिलने वाले भत्तों में ट्रांसपोर्ट एलाउंस और हाउस रेंट एलाउंस (यदि रहने के लिए क्वार्टर नही उपलब्ध कराया गया है तो), डियरनेस एलाउंस, कैश मेडिकल बेनेफिट, ग्रुप मेडिक्लेम और प्रोविडेंट फंड दिया जाता है| सभी एलाउंसेस के लिए निश्चित नियम व शर्तें होते हैं, जो कि क्षेत्र एवं परिस्थिति के अनुसार अलग-अलग होती हैं|

    Leave a Reply

    Your email address will not be published.